Wednesday, 28 June 2017

पत्नियाँ चाहे 95 मिनट तक
अपनी मम्मी से बात कर लें
लेकिन अंत मे एक बात ज़रूर बोलती हैं....


.
.
"ठीक है मम्मी .... फ़्री होकर बात करती हुँ"
और उनकी माँ सोचती हैं....
.
.
"पता नहीं बेटी को कितना काम करना पड़ता है,
बेचारी २ मिनट भी चैन से बात नहीं कर पाती"

No comments:

Post a Comment