Thursday, 29 June 2017

कल दोस्त दारू पीके घर का ताला खोल रहा था...

कल दोस्त दारू पीके घर का ताला खोल रहा था... 

नहीं खुला तो मैंने कहा कि मैं खोल दूँ...?

तो कहने लगा कि ......

ताला तो मैं खोल दूंगा, तू तो बस घर को पकड़ के रख, ये हिल बहुत रहा है....

No comments:

Post a Comment