Wednesday, 28 June 2017

आदमी ख़ुद से मिला हो तो गज़ल होती है

आदमी ख़ुद से मिला हो तो गज़ल होती है
ख़ुद से ही शिकवा-गिला हो तो गज़ल होती है
अपने जज्ब़ात को लफ्जों में पिरोने वालो

डूब कर शेर कहा हो तो गज़ल होती है
गैर से मिलके जहाँ ख़ुद को भूल जाये कोई
कभी ऐसा भी हुआ हो तो गज़ल होती है
दिल के ठहरे हुए ख़ामोश समन्दर में कभी
कोई तुफान उठा हो तो गज़ल होती है
बेसबब याद कोई बैठे-बिठाये आये
लब पे मिलने की दुआ हो तो गज़ल होती है
सिर्फ आती है सदा दूर तलक कोई नहीं
उस तरफ कोई गया हो तो गज़ल होती है
देखो ‘इरशाद’ ज़रा गौर से सुनना उसको
गुनगुनाती सी हवा हो तो गज़ल होती है
- मोहम्मद इरशाद

No comments:

Post a Comment