Wednesday, 28 June 2017

शोर की इस भीड़ में ख़ामोश तन्हाई-सी तुम

शोर की इस भीड़ में ख़ामोश तन्हाई-सी तुम
ज़िन्दगी है धूप, तो मदमस्त पुरवाई-सी तुम
आज मैं बारिश मे जब भीगा तो तुम ज़ाहिर हुईं

जाने कब से रह रही थी मुझमें अंगड़ाई-सी तुम
चाहे महफ़िल में रहूं चाहे अकेले में रहूं
गूंजती रहती हो मुझमें शोख शहनाई-सी तुम
लाओ वो तस्वीर जिसमें प्यार से बैठे हैं हम
मैं हूं कुछ सहमा हुआ-सा, और शरमाई-सी तुम
मैं अगर मोती नहीं बनता तो क्या बनता 'कुँअर'
हो मेरे चारों तरफ सागर की गहराई-सी तुम
कुँअर बेचैन

No comments:

Post a Comment