Wednesday, 28 June 2017

आदमी आदमी से मिलता है

आदमी आदमी से मिलता है
दिल मगर कम किसी से मिलता है
भूल जाता हूँ मैं सितम उस के

वो कुछ इस सादगी से मिलता है
आज क्या बात है के फूलों का
रंग तेरी हँसी से मिलता है
मिल के भी जो कभी नहीं मिलता
टूट कर दिल उसी से मिलता है
कारोबार -ए-जहाँ सँवरते हैं
होश जब बेख़ुदी से मिलता है
- जिगर मुरादाबादी

No comments:

Post a Comment