Saturday, 1 July 2017

सूरज चंदा जैसी जोड़ी हम दोनों

सूरज चंदा जैसी जोड़ी हम दोनों
दिन का राजा रात की रानी हम दोनों

जगमग जगमग दुनिया का मेला झूठा
सच्चा सोना सच्चा चांदी हम दोनों

इक दूजे से मिल कर पूरे होते हैं
आधी आधी एक कहानी हम दोनों

घर घर दुःख सुख का दीपक जले बुझे
हर दीपक में तेल और बाती हम दोनों

दुनिया की ये माया कंकर पत्थर है
आँसू शबनम हीरा मोती हम दोनों

चारों ओर समुन्दर बढ़ती चिंताएँ
लहर लहर लहराती कश्ती हम दोनों


- बशीर बद्र

No comments:

Post a Comment